27 मार्च 2017

loading...

बार बार पेशाब आने की समस्‍या को दूर करने का घरेलू उपाय


ब्लैडर में यूरिन स्टोरेज की क्षमता कम होने या इसके अधिक सक्रिय होने से बार बार पेशाब लगती है।

डायबिटीज के रोगी को पेशाब अधिक जाना पड़ता है।

चाय, कॉफ़ी और शराब अधिक पीने से पेशाब ज़्यादा लगती है।

पेट में कीड़े होने पर भी यूरिन अधिक होती है। ख़ासकर ऐसा बच्चों में देखने को मिलता है।

प्रोस्टेट ग्लैंड बढ़ जाए तो भी यह परेशानी हो जाती है।

इलाज के लिए दी जाने वाली दवाइयां भी अधिक बाथरूम जाने का कारण हो सकती है। इसलिए डॉक्टर से इस बारे में बात कीजिए।

सर्दियों में भी पेशाब अधिक लगती है।

गर्भाधारण के बाद भी ऐसा होना स्वभाविक है।

अधिक पेशाब आने पर घरेलू उपाय

बुज़ुर्गों में बार बार पेशाब आना आम बात है, इसलिए उन्हें रात में सोने पहले छुहारा खाकर दूध पीना चाहिए।

रोज़ सेब खाने और गाजर का जूस पीने से भी इसका इलाज सम्भव है।

पालक भी अधिक पेशाब जाने की समस्या को कम करती है। इसलिए शाम को इसकी सब्ज़ी बनाकर खाएं।

बार बार पेशाब आने की दिक्कत होने पर अंगूर के सेवन से लाभ मिलता है।

ब्रेकफ़ास्ट करने के बाद आप दो केले खाएं तो अधिक पेशाब आने की समस्या कम हो जाएगी।

चुटकी भर हल्दी फांककर पानी पीने से ज़्यादा पेशाब आने की शिकायत जाती रहती है।

मसूर की दाल खाने से इस प्रॉब्लम से छुटकारा मिल सकता है।

1 कटोरी मेथी का साग नियमित खाने से भी बार बार पेशाब आने की समस्या नहीं रहती है।

दिन में 2 बार 3 पिस्ते, 3 मुनक्के और 5 काली मिर्च खाने से आराम मिल जाता है।

जाड़े के मौसम में तिल के लड्डू बनाकर खाने से पेशाब अधिक आने की समस्या दूर हो जाती है।

दही खाने से ब्लैडर के हानिकारक बैक्टीरिया की बढ़त कम हो जाती है।
loading...