30 अप्रैल 2017

loading...

सर्दी, खांसी और जकड़न को दूर भगाने वाला घरेलू काढ़ा


सर्दी, खांसी और जकड़न, कई कारणों से हो सकती है। मौसम बदलने के दौरान, यह समस्‍या सबसे ज्‍यादा लोगों में पाई जाती है। इसके अलावा, धूल और प्रदूषण के कारण भी ये दिक्‍कतें हो सकती हैं, जिसकी वजह से सांस लेने में काफी तकलीफ होती है । सर्दी, खांसी और जकड़न के लिए डॉक्‍टर जो दवाएं देते हैं वो तुरंत लाभ पहुँचा देती हैं लेकिन उनके साइडइफेक्‍ट होते हैं, साथ ही उनके सेवन से नींद भी बहुत आती है। बार-बार सर्दी, खांसी या जकड़न की समस्‍या होने पर बेहतर होगा कि घरेलू उपचार किया जाएं, यह पूरी तरह से हर्बल होता है और इससे जल्‍दी ही आराम मिलता है। इसके लिए आपको अपनी किचेन में से कुछ खाद्य सामग्री, जैसे- प्‍याज, अदरक, लहसून आदि को इक्‍ट्ठा करना होगा। हम आपको घर पर ही काढ़ा बनाने की विधि बता रहे हैं जिससे सर्दी, खांसी और जकड़न में फटाक से आराम मिल जाएगा।


आवश्‍यक सामग्रियां :
1. बिना छना हुआ और कच्‍चा सेब का सिरका - एक चौथाई कप
2. नींबू का रस - एक चौथाई कप
3. कच्‍चा शहद - 2 चम्‍मच
4. सोंठ पाउडर - 1 चम्‍मच
5. लाल मिर्च पाउडर या मिर्च पाउडर या कुटी हुई मिर्च - आधा चम्‍मच
6. काली मिर्च पाउडर - एक चुटकी
7. हल्‍दी पाउडर - आधा चम्‍मच
8. एक कटोरा
9 मापने के लिए कप
10. रखने के लिए बर्तन

बनाने की विधि :
सबसे पहले कटोरे को लें और उसमें कच्‍चा सेब का सिरकार मिला लें। इसमें नींबू का रस मिला लें और चला लें। अब इसमें शहद को मिलाएं और सोंठ पाउडर को डालकर अच्‍छे से फेंट दें। बाद में मिर्च को मिलाएं। मिर्च पाउडर के बाद बारी है हल्‍दी पाउडर को डालने की, इसे भी अच्‍छे से मिला लें। इसके बाद, एक चुटकी काली मिर्च पाउडर डालें और अच्‍छी तरह चला दें। इस प्रकार, आपका खांसी और सर्दी के लिए काढ़ा तैयार है।

किस प्रकार इस्‍तेमाल करें:
इस काढ़े को किसी जार में भरके रख लें और रोगी को नियमित रूप से उचित खुराक दें। बड़े लोगों को दो चम्‍मच और छोटे बच्‍चों को एक चम्‍मच देना सही रहता है। 1 साल के कम उम्र के बच्‍चे को इसका सेवन न करवाएं। हर बार अगर ताजा बनाएं तो बेहतर होगा, अन्‍यथा इसे अच्‍छे से चला लें और उसके बाद ही इसका सेवन करें।
loading...

काढ़े के लाभ:

1. इसके सेवन से शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली में मजबूती आती है और मांसपेशियों को भी आराम मिलता है। साथ ही छाती में हुई जकड़न भी सही हो जाती है।

2. इस काढ़े में विटामिन सी मौजूद होता है जो सर्दी और खांसी में लाभदायक होता है और संक्रमण को होने से रोकता है।

3. काढ़े में मौजूद शहद में हीलिंग गुण होते हैं जो शरीर को अंदर से सही कर देते हैं।

4. काली मिर्च पड़े होने के कारण काढ़े से सेवन से साइनस की समस्‍या भी दूर हो जाती है। साथ ही नाक बहना भी बंद हो जाता है।

5. गला पक जाने या भारी हो जाने पर भी यह काढ़ा फायदा करता है क्‍योंकि इसमें अदरक होती है जो गले की खराश और समस्‍या को हल कर देती है।

6. हल्‍दी में कई लाभकारी गुण होते हैं जिसका सीधा फायदा इस काढ़े को पीने से मिलता है। इससे संक्रमण भी सही हो जाता है।

7. इसमें पड़ी काली मिर्च से कफ भी निकल जाता है और छाती की जकड़न भी कम हो जाती है।
इसे खांसी, सर्दी व जकड़न के दौरान, घर पर बनाकर अवश्‍य पीना चाहिए
loading...