9 मई 2018

loading...

हृदय रोग, लकवा, सफेद दाग, दमा, लीवर रोग, हकलाहट, नपुंसकता सभी का ईलाज है यह पत्ता


हम आपको एक ऐसे पौधे के बारे में बताने वाले हैं जो आपकी बहुत सी बीमारियों में आप को राहत प्रदान करने का काम करता है। इस पौधे का नाम पत्थरचट्टा है और यह ज्यादातर घरों में आसानी से मिल जाएगा। इसकी पत्तियां खाने में नमकीन और खट्टी मीठी लगती हैं। स्वास्थ्य के लिहाज से यह पौधा काफी फायदेमंद माना जाता है तो चलिए जान लेते हैं इसके फायदे विस्तार से।



पित्त की पथरी हो जाने पर इस पौधे के 2 पत्ते नियमित सुबह खाली पेट चबाएं तो कुछ ही दिनों में पित्त की पथरी गलकर पेशाब के रास्ते बाहर निकल जाएगी। इस पौधे को आयुर्वेद मे भस्म पथरी नाम से जाना जाता है।


पत्थरचट्टा के पौधे के साथ सौंफ का चूर्ण मिलाकर सेवन करने से नपुंसकता जैसी बीमारी हमेशा के लिए खत्म हो जाती है।

सफेद दाग समस्या हो जाने पर इस पौधे के पत्तों का रस लगाने से बहुत जल्दी सफेद दाग की समस्या से छुटकारा मिलता है और चेहरा सुंदर बनता है।


हकलाहट की समस्या में इसके पत्तों का नियमित सेवन करने से कुछ ही दिनों में हकलाहट की समस्या बहुत जल्दी दूर भाग जाएगी और आपकी आवाज कुछ ही दिनों में साफ हो जाएगी।


हृदय रोगियों के लिए इस पौधे के पत्तों का प्रयोग बहुत ही फायदेमंद माना जाता है। क्योंकि इसके अंदर भरपूर मात्रा में ओमेगा-3 और फैटी एसिड पाए जाते हैं जो दिल के रोगों के लिए बहुत ही ज्यादा फायदेमंद होते हैं। इस पौधे के पत्ते का नियमित सेवन करने से हृदय रोग होने की संभावना 50% तक कम हो जाती है।
लकवे की समस्या में इसके पत्तों का रस निकालकर उनमें जैतून का तेल मिलाकर इस को गर्म कर कर लकवे वाले स्थान पर लगाने से कुछ ही दिनों में लकवे की समस्या से राहत मिलती है।
अगर आपको कोई पेशाब संबंधी रोग है तो इसके 10 पत्तों को लेकर एक गिलास पानी में उबालकर पीने से पेशाब संबंधित कैसा भी रोग हो कुछ ही दिनों में बहुत जल्दी ठीक हो जाएगा।

कोई टिप्पणी नहीं:

loading...